-A A +A
अंतिम नवीनीकृत: 26-नवंबर-20

आईएफसीआई लि. में आपका स्वागत है

आईएफसीआई लि. (पूर्ववर्ती भारतीय औद्योगिक वित्त निगम) की स्थापना भारत की औद्योगिक व अवस्थापना आवश्यकताओं को पूरा करने और आर्थिक विकास में सक्षम बनाने के लिए 1948 में पहले विकास वित्तीय संस्थान के रूप में की गई थी । विगत 70 वर्षों में हमारा गौरवशाली अतीत रहा है । तथापि हमने कारोबार में कई उतार-चढ़ाव देखे परंतु अभी भी उद्योगों से हमें निकट से जुड़े हुए हैं और हमने भारतीय अर्थव्यवस्था के सतत् विकास के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

आज भारत वैश्विक अर्थव्यवस्था में वृद्धि और विकास के महत्वपूर्ण मोड़ पर है । पश्चिम में आपेक्षिक ठहराव और वैश्विक अर्थव्यवस्था में स्पष्ट परिवर्तन के कारण, भारतीय अर्थव्यस्था को वैश्विक अर्थव्यवस्था के विकास के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है । भारतीय आर्थिक परिदृश्य गतिशील है और इसमें नए वित्तीय बाजारों का लगातार विकास व सृजन हो रहा है । बृहद आर्थिक आधार व नीतियों के सुदृढ़ होने से यह आशा है कि निवेश व खपत ही आगामी वर्षों में विकास में वृद्धि करेंगे । इसी क्रम में हम आईएफसीआई में केन्द्र व राज्य सरकारों के महत्वपूर्ण क्षेत्रों तथा नीतियों तथा आने वाले समय में अर्थव्यवस्था की अपेक्षाओं से स्वयं को निरन्तर जोड़े रखेंगे ।

अवस्थापना सेवाएं तथा उद्योगों में विकास हमारी अर्थव्यवस्था के प्रमुख अंग रहे हैं तथा सरकार ने ऐसी नीतियां आरम्भ की हैं जिससे देश में वैश्विक श्रेणी की अवस्थापना, उद्योग विनिर्माण तथा सेवा क्षेत्र में समय सीमा के अन्दर सृजन सुनिश्चित किया जाएगा । सरकार के विभिन्न नीतिगत प्रयासों जैसे मेक इन इण्डिया तथा स्टार्ट अप इण्डिया के माध्यम से डिजिटाइजेशन, हरित ऊर्जा, सड़कें, जलमार्ग, ई-वाहन, स्मार्ट सिटिज तथा कौशल विकास व रोजगार के लिए क्षमता के सृजन पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है । उक्त प्रयासों से भारत निवेश के लिए एक महत्वपूर्ण स्थान बन गया है और उद्योग, अवस्थापना और सेवा क्षेत्रों में अर्थपूर्ण विदेशी प्रत्यक्ष निवेश को आकर्षित कर रहा है ।

आईएफसीआई समूह में हम चालू आर्थिक परिदृश्य को और हमारे ग्राहकों की आवश्यकताओं को पूरी तरह से समझते हैं और हमारा यह प्रयास है कि हम उन्हें समग्र वित्तीय उत्पाद तथा सेवाएं उपलब्ध कराएं । हम दीर्घकालिक परस्पर लाभकारी सम्बन्धों में विश्वास रखते हैं और विकासात्मक वित्त भूमिका में प्रतिभावान मानव संसाधन व लगभग सात दशकों का गहन अनुभव प्रदान करते हैं । हम निगमित तथा परियोजना ऋणों, संरचित उत्पादों, सलाहकारी सेवाओं, उद्यम पूंजी तथा कौशल विकास सेवाओं को प्रदान करके वित्तीय बाजारों की इन अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए महत्वपूर्ण स्थिति में हैं ।

हम भारत सरकार के सक्रिय समर्थन के साथ हमारी सेवाओं की गुणवत्ता को बढ़ाने और हमारी भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास में लगातार सहभागिता हेतु सभी जोखिमधारकों के साथ सुदृढ़ भागीदारी के इच्छुक हैं ।

धन्यवाद।